Sahitya DarshannStory,Poems.shayari,quotes,Gazals,कवितायें शायरी कहानियाँ

 

Posted: 09-03-2018 | Writer - Anamika Jain Amber

आने वाली हर नयी प्रभा ,दे खुशियों की सौगात
हर दिन आपका होली हो ,हो दिवाली हर रात !!
सफलता आपकी कदम चूमे ,न मिले जीवन में कभी निराशा
सफलता की आप दोस्त ,गढ़ दो एक नई परिभाषा !!

Share

Posted: 09-03-2018 | Writer - Anamika Jain Amber

मेरा मन तू बने, तेरा मन मैं बनूँ।
ऐसे पूजू तुझे ख़ुद नमन मैं बनूँ॥
एक ही प्रार्थना है प्रभु से मेरी।
हर जनम में तेरी ही दुल्हन मैं बनूँ॥
Share

Posted: 08-03-2018 | Writer - Kumar Vishwas

चंद चेहरे लगेंगे अपने से ,

खुद को पर बेक़रार मत करना ,

आख़िरश दिल्लगी लगी दिल पर?

हम न कहते थे प्यार मत करना…!!

Share

Posted: 08-03-2018 | Writer - Kumar Vishwas

हमने दुःख के महासिंधु से सुख का मोती बीना है,

और उदासी के पंजों से हँसने का सुख छीना है,

मान और सम्मान हमें ये याद दिलाते है पल पल,

भीतर भीतर मरना है पर बाहर बाहर जीना है..!!

Share

Posted: 08-03-2018 | Writer - Kumar Vishwas

तुम अमर राग-माला बनो तो सही,

एक पावन शिवाला बनो तो सही,

लोग पढ़ लेंगे तुम से सबक प्यार का,

प्रीत की पाठशाला बनो तो सही..!!

Share

Posted: 08-03-2018 | Writer - Kumar Vishwas

बदलने को तो इन आखोँ के मंज़र कम नहीं बदले ,

तुम्हारी याद के मौसम,हमारे ग़म नहीं बदले ,

तुम अगले जन्म में हम से मिलोगी,तब तो मानोगी ,

ज़माने और सदी की इस बदल में हम नहीं बदले..!!

Share

Posted: 08-03-2018 | Writer - Kumar Vishwas

घर से निकला हूँ तो निकला है घर भी साथ मेरे
देखना ये है कि मंज़िल पे कौन पहुँचेगा
मेरी कश्ती में भँवर बाँध के दुनिया ख़ुश है
 दुनिया देखेगी कि साहिल पे कौन पहुँचेगा

Share

Posted: 08-03-2018 | Writer - Kumar Vishwas

वो जो खुद में से कम निकलतें हैं
उनके ज़हनों में बम निकलतें हैं
आप में कौन-कौन रहता है
हम में तो सिर्फ हम निकलते हैं।

Share

Posted: 08-03-2018 | Writer - Kumar Vishwas

वो जिसका तीरे छुपके से जिगर के पार होता है
वो कोई गैर क्या अपना ही रिश्तेदार होता है
किसी से अपने दिल की बात तू कहना ना भूले से
यहां खत भी जरा सी देर में अखबार होता है।

Share

Posted: 08-03-2018 | Writer - Kumar Vishwas

कोई मंजिल नहीं जंचती, सफर अच्छा नहीं लगता
अगर घर लौट भी आऊ तो घर अच्छा नहीं लगता
करूं कुछ भी मैं अब दुनिया को सब अच्छा ही लगता है
मुझे कुछ भी तुम्हारे बिन मगर अच्छा नहीं लगता।

Share

Posted: 08-03-2018 | Writer - Kumar Vishwas

हमने दुःख के महासिंधु से सुख का मोती बीना है
और उदासी के पंजों से हँसने का सुख छीना है
मान और सम्मान हमें ये याद दिलाते है पल पल
भीतर भीतर मरना है पर बाहर बाहर जीना है।

Share

Posted: 08-03-2018 | Writer - Kumar Vishwas

नज़र में शोखिया लब पर मुहब्बत का तराना है
मेरी उम्मीद की जद़ में अभी सारा जमाना है
कई जीते है दिल के देश पर मालूम है मुझकों
सिकन्दर हूं मुझे इक रोज खाली हाथ जाना है।

Share

Posted: 08-03-2018 | Writer - Kumar Vishwas

सदा तो धूप के हाथों में ही परचम नहीं होता
खुशी के घर में भी बोलों कभी क्या गम नहीं होता
फ़क़त इक आदमी के वास्तें जग छोड़ने वालो
फ़क़त उस आदमी से ये ज़माना कम नहीं होता।

Share

Posted: 08-03-2018 | Writer - Kumar Vishwas

पनाहों में जो आया हो तो उस पर वार क्या करना
जो दिल हारा हुआ हो उस पे फिर अधिकार क्या करना
मुहब्बत का मजा तो डूबने की कशमकश में है
हो ग़र मालूम गहराई तो दरिया पार क्या करना।

Share

Search

Categories

Friendship Shayari

Love Shayari

Sad Shayari

Life Shayari

Ma Shayari

Attitude Shayari

Motivational Shayari

Funny Shayari

Other Shayari

Shayar

चन्दन कुमार पंडित 1

कुंदन कुमार पंडित 3

रंजन कुमार पंडित 14

सूर्य कुमार शुक्ला 2

अनामिका अंबर 6

कविता तिवारी 1

कुमार विश्वास 13

मुनव्वर राना 8

6

विष्णु सक्सेना 5

Popular Shayaries