Sahitya DarshannStory,Poems.shayari,quotes,Gazals,कवितायें शायरी कहानियाँ

 

सफर जारी है

Posted: 16-10-2018 | Writer - Mehak

सफर जारी है ज़िन्दगी की मंजिल की ओर

[Read More]

मधुर तान मुरली की

Posted: 06-09-2018 | Writer - Ranjan Kumar Pandit

मधुर तान मुरली की आकर अब सुना जा , हे माखन चोर कन्हैया ,इस कलयुग में आजा !!

[Read More]

Posted: 02-06-2018 | Writer - Mehak

"Besak Suna hai Maine"

[Read More]

आईना हूँ मै

Posted: 01-05-2018 | Writer - Mehak

Aaina hoon main mere saamne Aakar to dekho.

[Read More]

चिठ्ठियाँ

Posted: 30-04-2018 | Writer - Saumya Pandey

अब कहाँ खो गयी वो सभी चिठ्ठियाँ , खुशबुओं में नहायी सजी चिठ्ठियाँ , अब चलन में नहीं प्यार की चिठ्ठियां, लोग लिखते हैं बस काम की चिठ्ठियाँ !! वो कहाँ तक छुपाता बहा दी सभी , जान से भी प्यारी तेरी चिठ्ठियां उसके छूने से जो हो गयी मखमली , भेज दे काश फिर वही चिठ्ठियाँ !!

[Read More]

कान का दरवाजा

Posted: 14-04-2018 | Writer - Swati

जब हम चाहते आँखे खोलते, जब चाहते तब बंद कर लेते, ये सब संभव है केवल, आँखों की पलकों के चलते ! आँखों की पलकों के जैसा, काश कान के दरवाजे भी होते ! जब चाहे तब खोल लेते , जब चाहे तब बंद कर लेते !!

[Read More]

प्रिय

Posted: 09-04-2018 | Writer - Mukesh Kumar Chaudhary

तुम जानती हो प्रिय , मेरे लिए तुम कितनी खास हो। तेरे बिना मेरा जीवन , बिलकुल अधूरा सा है। अगर मै सरिता हूँ, तो तुम उसकी निर्मल जल हो। मिलकर हम दोनों सदैव,  जीवन की प्यास बुझाएंगे ।

[Read More]

ये औरतें भी न!

Posted: 08-04-2018 | Writer - Saumya Pandey

अरे यार! ये औरतें भी न, बड़ी बेवकूफ होती हैं। दो मिनट की आरामदायक और बच्चों के पसंद की ज़ायकेदार मैगी को छोड़, किचन में गर्मी में तप कर हरी सब्ज़ियाँ बनाती फिरती हैं। बच्चे मुँह बिचकाकर नाराज़गी दिखलाते हैं सो अलग, फिर भी बाज नहीं आती। अरे यार! ये औरतें भी न, बड़ी बेवकूफ होती हैं।

[Read More]

मोर गउवां हेरात बा

Posted: 03-04-2018 | Writer - Uma Shankar Singh

न पोखरी न घोघा न सुतुही देखात बा, तनी तनी रोज मोर गउवां हेरात बा, का भइल बोदर कहां गइल बउलिया, बोले न चोंय चांय का भइल ढेंकुलिया, उड़ति बा धूरि अउर खेती सुखात बा, तनी तनी रोज मोर गउवां हेरात बा,

[Read More]

कड़वी सच्चाई

Posted: 31-03-2018 | Writer - Saumya Pandey

सच्चा छिपा झूठ के पीछे , चमक रहा है रंग काला ! सच गलत है ,झूठ सत्य है शासन है जपता माला !!

[Read More]

प्यार का रोग

Posted: 31-03-2018 | Writer - Mukesh Kumar Chaudhary

एक जुर्म किया है मैंने, एक दोस्त बना बैठे हम। कहते है ! प्यार सभी जिसको, वो रोग लगा बैठे हम।

[Read More]

मैं एक औरत हूँ

Posted: 31-03-2018 | Writer - Saumya Pandey

मैं एक औरत हूँ, मैं ढकूँ तो ढकूँ कहाँ तक , अपने को ,कभी नजरो में हूँ .. तो कभी किताबों में हूँ ,लोगो की बातों में हूँ , तो कभी परदे में हूँ ,शायर की शायरी में हूँ ,

[Read More]

मै गुलाब हूँ

Posted: 26-03-2018 | Writer - Mukesh Kumar Chaudhary

मै गुलाब हूँ, नाजुक बहुत हूँ। पर खुद बिछुड़ कर, दो बिछुड़े दिलो को, जोड़ना जानती हूँ।

[Read More]

नव वर्ष की शुभकामना

Posted: 26-03-2018 | Writer - Mukesh Kumar Chaudhary

खेतो की मेड पर उषा की पहली किरण का, स्वागत करते किसान को। लहलहाती हुयी फसले और खेत खलिहान को। चारागाह से लौटते हुए पाशुओ के झुण्ड को। नव वर्ष की शुभकामना।

[Read More]

माँ तो बस माँ होती है

Posted: 26-03-2018 | Writer - Mukesh Kumar Chaudhary

माँ तो बस माँ होती है माँ तेरी हो या मेरी , माँ तो बस माँ होती है। जो पास में न होकर भी, सदा साथ हमारे होती है। माँ तो बस माँ होती है।

[Read More]

Search

कवि

चन्दन कुमार पंडित 3

गुंजन कुमार पंडित 1

कुंदन कुमार पंडित 2

महक 3

मुकेश कुमार चौधरी 7

रंजन कुमार पंडित 7

सौम्या पांडेय 4

स्वाति 1

उमा शंकर सिंह 1

अनामिका अंबर 1

कविता तिवारी 1

कुमार विश्वास 8

रामधारी सिंह दिनकर 15

विष्णु सक्सेना 3

सर्वाधिक पसंदीदा कवितायेँ